CHAIRPERSON'S Message
वर्तमान प्रगतिशील भारत में विद्यालयो की संख्या में निरन्तर वृद्धि हो रही है। प्रत्येक विद्यालय, विद्यार्थियों की सफलता सुनिश्चित करने के लिए कटिबद्ध हैं। मैं चाहती हूॅ कि हमारे विद्यालय में विकासोन्मुख विद्यार्थी चतुर्दिक सम्यक् ज्ञान के साथ सुसंस्कारों से भी अभिसिंचित होते रहे, ताकि उपलब्धियों से पूर्व उनका सुसंस्कृत व्यवहार उनका परिचय बने। संस्कार जनित आत्मविश्वास एवं दैविक शान्ति उनके हौसलों को पंख लगा उन्हें हर चुनौती का सामना करने के लिए तैयार करे।

बी.एल.एम. में हम मोती चुने नहीं अपितु हर बालक मोती बने। तदर्थ हम सदैव तत्पर हैं।

श्रीमती आदेश अग्रवाल
(अध्यक्षा)